-->
Natural Natural

भारतीय शिपिंग मंत्रालय ने SAROD बंदर शुरू किए


  • 10 सितंबर 2020 के दिन केंद्रीय शिपिंग मंत्री श्री मनसुख मांडवीया ने सरोड बंदर नाम की एक विवाद निवारण पद्धति शुरू की।
  • SAROD एक विवादों के निवारण की पोषण क्षम सोसाइटी है। पहले SAROD बंदरगाह वह कहलाता था जहां पर बंदरगाह और बंदरगाह के साथ काम करने की छूट के बीच का विवाद मध्यस्थि था। हालांकि वहां पर समय से निर्णय लेने में नहीं आए थे और प्रोजेक्ट में भी बड़ी असर हुई थी और उसी तरह वहां पर SAROD बंदरों के द्वारा बदल दिया गया।
 
सारोड बंदर के बारे में कुछ बातें:
  • सरोज एक निकास टीम नियुक्त करेगी और वह टीम समय पर निर्णय लेकर विवादों का समय से निराकरण लाएगी। बंदरगाह सोसाइटी नोंधनी अधिनियम 1860 के तहत करने में आई है।
  • SAROD बंदर का मुख्य हेतु समय सर विवादों का निराकरण और विवाद निवारण मेकैनिज्म का समृद्धि करण है।
  • जनवरी 2018 में भारत के वडाप्रधान नरेंद्र मोदी जी की अध्यक्षता में केंद्रीय कैबिनेट मॉडल कंसेशन करार के सुधारने के लिए मंजूरी दी गई और इसी के कारण सारोड बंदरों की स्थापना हो रही है।

मॉडल कंसेशन एग्रीमेंट:
  • मॉडल कंसेशन एग्रीमेंट वह भारत में जाहिर और खानगी प्रोजेक्ट की भागीदारी का एक मुख्य भाग है। वह भारत में पब्लिक प्राइवेट प्रोजेक्ट को लागू करने में सूचित करता है।







Telegram Group Link: Click Here


Post a Comment

Subscribe Website